bhagat singh Quotes in Hindi: Find best inspirational thoughts bhagat singh in Hindi like God, Mother-Father, Inspirational. Also get bhagat singh Nice Thought, Inspirational (Motivational) Collection of Good Suvichar

inasan tabhi kuchh karata hai jab...

inasan tabhi kuchh karata hai jab vo apane kam ke auchity ko lekar sunishchit hota hai , jaisaki ham vidhan sabha men bam phenakane ko lekar the

इंसान तभी कुछ करता है जब वो अपने काम के औचित्य को लेकर सुनिश्चित होता है , जैसाकि हम विधान सभा में बम फेंकने को लेकर थे

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

kisi bhi kimat par bal ka prayog...

kisi bhi kimat par bal ka prayog na karana kalpanik adarsh hai aur
naya andolan jo desh men shuru hua hai aur jisake arambh ki ham chetavani de chuke hain vo guru gobinad sinah aur shivaji, kamal pasha aur raja khan , vashinagatan aur gairibaldi , laphayetate aur lenin ke adarshon se prerit hai

किसी भी कीमत पर बल का प्रयोग ना करना काल्पनिक आदर्श है और  नया आन्दोलन जो देश में शुरू हुआ है और जिसके आरम्भ की हम चेतावनी दे चुके हैं वो गुरु गोबिंद सिंह और शिवाजी, कमाल पाशा और राजा खान , वाशिंगटन और गैरीबाल्डी , लाफायेतटे और लेनिन के आदर्शों से प्रेरित है।

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

ahinasa ko atm-bal ke siddhanat...

ahinasa ko atm-bal ke siddhanat ka samarthan prapt hai jisame anatat: pratidvanadi par jit ki asha men kasht saha jata hai lekin tab kya ho jab ye prayas apana lakshy prapt karane men asaphal ho jaen ? tabhi hamen atm -bal ko sharirik bal se jodane ki jarurat padati hai taki ham atyachari aur krur dushman ke rahamokaram par na nirbhar karen

अहिंसा को आत्म-बल के सिद्धांत का समर्थन प्राप्त है जिसमे अंतत: प्रतिद्वंदी पर जीत की आशा में कष्ट सहा जाता है | लेकिन तब क्या हो जब ये प्रयास अपना लक्ष्य प्राप्त करने में असफल हो जाएं ? तभी हमें आत्म -बल को शारीरिक बल से जोड़ने की ज़रुरत पड़ती है ताकि हम अत्याचारी और क्रूर दुश्मन के रहमोकरम पर ना निर्भर करें

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

main is bat par jor deta hun ki...

main is bat par jor deta hun ki main mahattvakanaksha , asha aur jivan ke prati akarshan se bhara hua hun par main jarurat padane par ye sab tyag sakata hun, aur vahi sachcha balidan hai

मैं इस बात पर जोर देता हूँ कि मैं महत्त्वाकांक्षा , आशा और जीवन के प्रति आकर्षण से भरा हुआ हूँ| पर मैं ज़रुरत पड़ने पर ये सब त्याग सकता हूँ, और वही सच्चा बलिदान है

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

jo vyakti bhi vikas ke lie khadaa...

jo vyakti bhi vikas ke lie khadaa hai use har ek rudhaivadi chij ki alochana karani hogi , usame avishvas karana hoga tatha use chunauti deni hogi

जो व्यक्ति भी विकास के लिए खड़ा है उसे हर एक रूढ़िवादी चीज की आलोचना करनी होगी , उसमे अविश्वास करना होगा तथा उसे चुनौती देनी होगी

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

kisi ko "kranati" shabd ki vyakhya...

kisi ko "kranati" shabd ki vyakhya shabdik arth men nahin karani chahie jo log is shabd ka upayog ya durupayog karate hain unake phayade ke hisab se ise alag alag arth aur abhipray die jate hai

किसी को "क्रांति" शब्द की व्याख्या शाब्दिक अर्थ में नहीं करनी चाहिए। जो लोग इस शब्द का उपयोग या दुरूपयोग करते हैं उनके फायदे के हिसाब से इसे अलग अलग अर्थ और अभिप्राय दिए जाते है

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

yadi baharon ko sunana hai to avaja...

yadi baharon ko sunana hai to avaja ko bahut joradar hona hoga jab hamane bam giraya to hamara dheyy kisi ko marana nahin th hamane anagreji hukumat par bam giraya tha anagrejon ko bharat chhodana chahie aur use ajaad karana chahiye

यदि बहरों को सुनना है तो आवाज़ को बहुत जोरदार होना होगा| जब हमने बम गिराया तो हमारा धेय्य किसी को मारना नहीं थ| हमने अंग्रेजी हुकूमत पर बम गिराया था | अंग्रेजों को भारत छोड़ना चाहिए और उसे आज़ाद करना चहिये

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

am taur par log chijen jaisi hain...

am taur par log chijen jaisi hain usake adi ho jate hain aur badalav ke vichar se hi kanapane lagate haina hamen isi nishkriyata ki bhavana ko kranatikari bhavana se badalane ki jarurat hai

आम तौर पर लोग चीजें जैसी हैं उसके आदि हो जाते हैं और बदलाव के विचार से ही कांपने लगते हैं। हमें इसी निष्क्रियता की भावना को क्रांतिकारी भावना से बदलने की ज़रुरत है

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

rakh ka har ek kan meri garmi se...

rakh ka har ek kan meri garmi se gatiman hai main ek aisa pagal hun jo jel men bhi ajaad hai

राख का हर एक कण मेरी गर्मी से गतिमान है मैं एक ऐसा पागल हूँ जो जेल में भी आज़ाद है

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

Search terms leading to this page are bhagat singh quotes, suvichar in hindi. You may also check Motivational bhagat singh suvichar in hindi . We hope you like our Latest collection of Nice Thought.