character Quotes in Hindi: Find best inspirational thoughts character in Hindi like God, Mother-Father, Inspirational. Also get character Nice Thought, Inspirational (Motivational) Collection of Good Suvichar

lagabhag sabhi log vipatti ke samay...

lagabhag sabhi log vipatti ke samay khadde rah sakate hain,

lekin agar ap kisi vyakti ke charitr ki pariksha lena chahate hain to use satta de kar dekhen

लगभग सभी लोग विपत्ति के समय खड़े रह सकते हैं, 

लेकिन अगर आप किसी व्यक्ति के चरित्र की परीक्षा लेना चाहते हैं तो उसे सत्ता दे कर देखें

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

charitr vo nahin hai ki jisake...

charitr vo nahin hai ki jisake sath ap paida hue hain aur badal nahin sakate,

jaisa ki apake unagaliyon ke nishan

ye vo hai jisake sath ap paida nahin hue hai aur

jise banane ki jimmedari apako leni chahie

चरित्र वो नहीं है कि जिसके साथ आप पैदा हुए हैं और बदल नहीं सकते, 

जैसा कि आपके उँगलियों के निशान 

ये वो है जिसके साथ आप पैदा नहीं हुए है और 

जिसे बनाने की जिम्मेदारी आपको लेनी चाहिए

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

jaruri nahin hai ki prabal ehasas...

jaruri nahin hai ki prabal ehasas prabal charitr bhi banaye

ek vyakti ke charitr ki takat is bat se mapi jati hai

ki vo apani bhavanaon ko kaise vash men karata hai

n ki usaki bhavanae use kaise vash men karati hain

जरूरी नहीं है कि प्रबल एहसास प्रबल चरित्र भी बनाये

एक व्यक्ति के चरित्र की ताकत इस बात से मापी जाती है 

कि वो अपनी भावनाओं को कैसे वश में करता है 

न कि उसकी भावनाए उसे कैसे वश में करती हैं

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

kathin parishram logon ke charitr...

kathin parishram logon ke charitr par roshani dalata hai

kuchh log apani bahen upar karake khadde hote hain,

kuchh log apani nak upar karake khadde hote hain

aur kuchh log khadde hi nahin hote

कठिन परिश्रम लोगों के चरित्र पर रोशनी डालता है

कुछ लोग अपनी बाहें ऊपर करके खड़े होते हैं, 

कुछ लोग अपनी नाक ऊपर करके खड़े होते हैं 

और कुछ लोग खड़े ही नहीं होते

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

apane charitr ki chinata apani...

apane charitr ki chinata apani ijjat se jyada karen,

kyunaki apaka charitr vo hai jo ki ap vastav men hain

jabaki apaki ijjat matr is bat par nirbhar karati hai

ki dusare apake bare men kya sochate hain

अपने चरित्र की चिंता अपनी इज्जत से ज्यादा करें, 

क्यूंकि आपका चरित्र वो है जो कि आप वास्तव में हैं 

जबकि आपकी इज्जत मात्र इस बात पर निर्भर करती है 

कि दुसरे आपके बारे में क्या सोचते हैं

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

shvanas ki kriya ke saman hamare...

shvanas ki kriya ke saman hamare charitr men ek aisi sahaj kshamata honi chahie jisake bal par jo kuchh prapy hai vah anayas grahan kar len aur jo tyajy hai vah bina kshobh ke tyag sakena

श्वांस की क्रिया के समान हमारे चरित्र में एक ऐसी सहज क्षमता होनी चाहिए जिसके बल पर जो कुछ प्राप्य है वह अनायास ग्रहण कर लें और जो त्याज्य है वह बिना क्षोभ के त्याग सकें।

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

charitr ke bina jnyan burai ki...

charitr ke bina jnyan burai ki takat ban jata hai, jaise ki duniya ke kitane hi 'chalak choronrsquo; aur 'bhale manush badamashonrsquo; ke udaharan se spasht hai

चरित्र के बिना ज्ञान बुराई की ताकत बन जाता है, जैसे कि दुनिया के कितने ही ‘चालाक चोरों’ और ‘भले मानुष बदमाशों’ के उदाहरण से स्पष्ट है।

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

buddhiman vyaktiyon ki prashanasa...

buddhiman vyaktiyon ki prashanasa ki jati hai, dhanavan vyaktiyon se irshya ki jati hai, balashali vyaktiyon se dara jata hai lekin vishvas keval charitravan vyaktiyon par hi kiya jata hai

बुद्धिमान व्यक्तियों की प्रशंसा की जाती है, धनवान व्यक्तियों से ईर्ष्या की जाती है, बलशाली व्यक्तियों से डरा जाता है लेकिन विश्वास केवल चरित्रवान व्यक्तियों पर ही किया जाता है।

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

vichar se karm ki utpatti hoti...

vichar se karm ki utpatti hoti hai, karm se adat ki utpatti hoti hai, adat se charitr ki utpatti hoti hai aur charitr se apake prarabdh ki utpatti hoti hai

विचार से कर्म की उत्पत्ति होती है, कर्म से आदत की उत्पत्ति होती है, आदत से चरित्र की उत्पत्ति होती है और चरित्र से आपके प्रारब्ध की उत्पत्ति होती है

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

stri kabhi bhi pati ki daulat ke...

stri kabhi bhi pati ki daulat ke sukhi ya dukhi nahin hoti usaka sukh ya dukh pati ki yogyata aur charitr par nirbhar karata hai

स्त्री कभी भी पति की दौलत के सुखी या दुखी नहीं होती। उसका सुख या दुख पति की योग्यता और चरित्र पर निर्भर करता है।

  • Share on Facebook
  • Share on Google
  • Share on Twitter

Search terms leading to this page are character quotes, suvichar in hindi. You may also check Motivational character suvichar in hindi . We hope you like our Latest collection of Nice Thought.